Check out अनुराग शर्मा की कहानी “घर और बाहर”

हर शनिवार को आवाज़ पर सुनें एक नयी कहानी
“कामरेड के चमचे जनता को विश्वास दिला रहे थे कि क्रांति दरवाज़े तक तो आ ही चुकी है। जिस दिन इलाके के स्कूल, कारखाने और थाने को आग लगा दी जायेगी, क्रांति का प्रकाश जीवन को आलोकित कर देगा।”
(अनुराग शर्मा की “घर और बाहर” से एक अंश)

Check out अनुराग शर्मा की कहानी “घर और बाहर”

Advertisements

टिप्पणी करे

नमस्ते

नमस्ते।
आज से शुरू होने वाले इस नये ब्लॉग पर आपका स्वागत है।
जैसे ब्लॉग का शिर्षक है यह हिन्दी भाषा मे प्रकाशित होने वाले ब्लॉग्स और ब्लॉगर्स से आपका परिचय करवायेगा। साथ-साथ हमारी यह भी कोशिश रहेगी कि हिन्दी ब्लॉग जगत मे नया क्या चल रहा है इसका भी एक निरंतर सर्वेक्षण करते रहे।
आशा है कि आप सब पाठकों को जिन्हे हिन्दी साहित्य मे रुचि है, यह नया ब्लॉग पसंद आयेगा। आपके सुझाव और टिप्पणियों का स्वागत।
आपका 
एक मित्र

,

1 टिप्पणी